ना अंकिता लोखंडे, ना रिया चक्रवर्ती, सुशांत सिंह राजपूत को इनसे हुआ था ‘सच्‍चा प्‍यार’

0
41

नई दिल्ली। दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की कुछ दिन में ही पहली बरसी आने वाली है। ऐसे में उनके चाहने वाले अभिनेता को याद कर रहे हैं। सुशांत की कई पुरानी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। इसी बीच अभिनेता से जुड़े कई पुराने किस्से भी लोग याद कर रहे हैं। ऐसे में हम भी आपको बताते हैं अभिनेता से जुड़ा एक किस्सा, जब उन्होंने अपने सच्चे प्यार के बारे में बात की थी…

दरअसल साल 2019 में दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत एक इवेंट में स्‍पीकर के रूप में पहुंचे थे। इसी दौरान उन्होंने अपने सच्चे प्यार के बारे में बताया था। लेकिन ये सच्चा प्यार रिया चक्रवर्ती या अंकिता लोखंडे नहीं थीं। बल्कि कोई और ही था। अभिनेता ने बताया था कि उन्हें सच्चा प्यार अपनी क्लास टीर से हुआ था वो भी चौथी कक्षा में।

सुशांत इस बात को मजाकिया अंदाज में बता रहे थे। हंसते हुए सुशांत ने बताया था कि उन्होंने टीचर को अप्रोच नहीं किया क्‍योंकि उन्‍हें एग्‍जाम पास करना था। इस दौरान सुशांत ने इस बात का भी खुलासा किया कि उन्हें पहला प्रपोजल कब मिला। सुशांत ने बताया कि जब वो 9वीं क्लास में पढ़ते थे तब उन्हें अपनी जिंदगी का पहला प्रपोजल मिला था।

इतना ही नहीं सुशांत ने इस दौरान अपनी हली डेट का भी खुलासा किया था। सुशांत ने बताया था कि, ‘मैं इंजिनियरिंग स्‍टूडेंट्स को पढ़ाता था और उन पैसों से मैंने एक बाइक खरीदी थी। इसके बाद मैं अपनी पहली डेट पर पराठे खाने उसी बाइक से मुरथल गया था।’ और यही अभिनेता की पहली डेट भी थी।

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत का निधन बीते साल 14 जून को हुआ था। सुशांत को इसी दिन अपने मुंबई स्थित निवास पर मृत पाया गया था। जिसके बाद प्रथम दृष्ट्या जांच में इस मामले को आत्महत्या के रूप में देखा गया। हालांकि कई दिन चली जांच के बाद सुशांत का परिवार आगे आया और उन्होंने सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के ऊपर सुशांत से पैसे ऐंठने और उनको आत्महत्या के लिए का मामला दर्ज करवाया।

इसके बाद परिवार के ही दबाव में मामले को सीबीआई को सौंपा गया। सीबीआई के साथ ही इस मामले में एनसीबी (नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो) और ईडी (इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट) को भी हस्तक्षेप करना पड़ा। घटना को हुए एक साल का समय बीत चुका है लेकिन अब तक सीबीआई, एनसीबी और ईडी किसी भी निष्कर्ष पर नहीं पहुंची है।